Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani

Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani is a Hindi song. Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani singer is Neha Kakkar, Vibhor Parashar. Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani song lyricist and writer is AddyNagar, Hamsar Hayat. and music directed by Shatak Sharma.

Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani Song Lyrics In English

Hum Sa Na Koi Ashiq Yaha Hai,
Pana Hai Tujko Yeh Mera Faisla Hai.

Hum Sa Na Koi Ashiq Yaha Hai
, Pana Hai Tujko Yeh Mera Faisla Hai.
Ab Ke Tu Jaye, Toh Jane Na Donga,
Hath Pkad Ke Ha Mein Rok Lunga.

Chandi Sa Badan Tera, Sone Si Jwani Hai,
Mein Ishq Ka Raja Hu, Tu Husan Ki Rani Hai.

Mein Ishq Ka Raja Hu, Tu Husan Ki Rani Hai.

Barsaat Ke Mausam Mein Na Julaf Ko Bikhrao,
Thehre Hue Pani Mein Kya Aag Lagani Hai.

Ungli Me Agunthi, Jo Pehne Huae Bathe Ho,
Zra Yeh Toh Bta Do Tum Yeh Kiski Nishani Hai.

Mein Ishq Ka Suraj Hu, Chalta Hu Tere Gam Me,
Tu Khushbu Lutati Hai, Kya Raat Ki Rani Ha.

Hai Yeh Josh Kiskis Mein Hum V Zra Dekhe,
Kashmir Ki Bottle Me Punjab Ka Pani Hai,
Yeh Daur Taraqqi Bhi Aafat Ki Nishani Hai.

Bacho Pe Budhapa Hai, Budho Pe Jawani Hai
Kal Dekh Ke Chupte The, Ab Dekhte Hai Chup Kar,
Wo Dor Hai Bachpan Ka, Yeh Dor Jawani Hai.

Hum Sarsa Koi Diwana Nahi Hai,
Jana Yeh Tune Jana Kyu Nahi Hai,

Hum Sarsa Koi Diwana Nahi Hai,
Jana Yeh Tune Jana Kyu Nahi Hai.

Teri Ashqi Me Kaisa Nasha Hai,
Na Chhoruga Tujhko Tu Meri Jane Ja Hai.

Chandi Sa Badan Tera, Sone Si Jawani Hai,
Mein Ishq Ka Raja Hu, Tu Husan Ki Rani Hai.

Mein Ishq Ka Raja Hu, Tu Husan Ki Rani Hai,
Mein Ishq Ka Raja Hu, Tu Husan Ki Rani Hai.

Hum Sa Na Koi Ashiq Yaha Hai,
Pana Hai Tujko Yeh Mera Faisla Hai.

Hum Sa Na Koi Ashiq Yaha Hai,
Pana Hai Tujko Yeh Mera Faisla Hai.

Ab Ke Tu Jaye, Toh Jane Na Donga,
Hath Pkad Ke Ha Mein Rok Lunga.

Chandi Sa Badan Tera…..

Kashmir Ki Botal Mein Punjab Ka Pani Song Lyrics In Hindi

हम सा ना कोई आशिक़ यहा है,
पाना है तुझको ये मेरा फैसला है।

हम सा न को आशिक़ याहा है
, पना है तुझको ये मेरा फेसला है।

अब के तू जाए, तोह जेन ना दूँगा,
हाथ पक्ड़ के हा मैं रो रोक लूंगा।

चाँदी सा बदन तेरा, सोने सी जवानी है,
में इश्क का राजा हु, तू हुस्न का रानी है।

में इश्क का राजा हुआ, तू हुस्न का रानी है।

बरसात के मौसम में ना जुलफ को बिखारो,
ठहरे हुए पनि में क्या आग लगानी’ है।

उन्गली में अंगूठी, जो पेहने हुआ बठे हो,
ज़रा ये तो बत्ता दो तो ये किसकी निशानी है।

मैं इश्क का सूरज हू, चलती हू तेरे गम मैं,
तू ख़ुशबू लुटती है, क्या रात की रानी हा।

है ये जोश किसिस में हम वी ज़रा देके,
कश्मीर की बोतल मैं पंजाब का पानी है,
ये दउर तारककी भी आफत की निशानी है।

बचो पे बुढपा है, बुधो पे जवानी है
काल दीख के चुप, अब दीखे है चुप कर,
वो दौर था बचपन का दौर जवानी है

हम सरसा कोई दिवाना नहीं है,
जाना ये धुन जान क्यूं नहीं है,

हम सरसा कोई दिवाना नहीं है,
जन याह तुने जनु कउ न होई।

तेरी आशिकी मैं कैसा नशा है,
ना छुरूगा तुझको तू मेरी जान जा है।

चंडी सा बदन तेरा, सोन सी जवानी है,
मुझसे इश्क का राजा हुआ, तू हुस्न का रानी है।

मैं इश्क का राजा हू, तू हुस्न की रानी है,
मुझसे इश्क का राजा हुआ, तू हुस्न का रानी है।

हम सा ना कोई आशिक़ है,
पाना है तुझको ये मेरा फैला है।

हम सा ना कोई आशिक़ है,
पाना है तुझको ये मेरा फैला है।

अब के तू जे, तोह जेन ना डोंगा,
हाथ पक्क के हा मैं रो रोक लूंगा।

चंडी सा बदन तेरा ….।

You may also like...